ब्लॉग

वो क्षेत्र जहाँ मानसून के समय सबसे ज्यादा सीलन या रिसाव की संभावना होती है

नवीकरण

वो क्षेत्र जहाँ मानसून के समय सबसे ज्यादा सीलन या रिसाव की संभावना होती है

अप्रैल और मई की प्रचंड गर्मी के बाद आने वाली बारिश की बूंदों से किसे प्यार नही होगा| इन बारिश की बूंदों में अलग ही सुकून है मानो जैसे सबकुछ पहले के जैसा ख़ूबसूरत, खुशनुमा और हरा भरा हो गया हो| पर क्या आपके घर और घर की दीवारों का भी यही मानना है क्या वो भी बेख़ौफ़ होकर इस बारिश का आनंद ले रहे है|

मानसून की शुरुआत के साथ अगर आपने अपने घर में जलरोधक/ वाटरप्रूफ  नहीं किया है, तो इसका परिणाम घर के अंदर भी उतना ही देखने को मिलेगा जितना घर के बाहर, और यकीन मानिए ये अनुभव ज्यादा सुखद नही होगा| बल्कि सीलन और रिसाव की वजह से जो एलगी, फंगस और मच्छर पैदा होंगे वो आपके स्वास्थ्य को भारी नुकसान पंहुचा सकते हैं| जबकि अच्छा वॉटरप्रूफिंग ना सिर्फ संरचना के जीवन को बढ़ाता है बल्कि आपको भी बिमारियों से दूर रखता हैं।

अब जब हम भारी मानसून वाले महीने में प्रवेश करने की कगार पर हैं, तो उन क्षेत्रों पर विशेष ध्यान दें, जिनमें सबसे अधिक रिसाव और सीलन का खतरा है और इस विषय पर ध्यान दे की आप इससे कैसे बच सकते हैं। अच्छे वॉटरप्रूफिंग के महत्व को नाकारा नहीं जा सकता है।

वॉटरप्रूफिंग की बात करें तो चार ऐसे व्यापक क्षेत्र हैं जिन पर सबसे अधिक ध्यान देने की आवश्यकता है-

एक इमारत / बिल्डिंग की बाहरी दीवारें: जैसे-जैसे बिल्डिंग पुराना होने लगता है वक़्त के साथ लगातार कठोर धूप और तापमान के संपर्क में होने की वजह से, बाहरी सतहों पर प्लास्टर ढीले पड़ने लगते हैं और दीवारों में दरारें पड़ने लगती हैं। मानसून के दौरान पानी दरारों से रिस सकता है और आपके दीवार को बदसूरत बनाने के साथ साथ यह संरचना को भी कमजोर कर सकता है। रोफ्फ़ हाइडम्प का इस्तेमाल करे, जो मुख्य रूप से रेलिंग, बाहरी दीवारे, छज्जे, और आंतरिक और बाहरी प्लास्टर वाली सतह के वॉटरप्रूफिंग के लिए उपयोग किया जाता है। यह वॉटरप्रूफिंग रसायन आदर्श रूप से प्लास्टर, ईंट ब्लॉकों और रफकास्ट प्लास्टर ब्लॉकों पर उपयोग के लिए उपयुक्त है। इसका उपयोग आंतरिक दीवारों की समतल सतह पर नम पैच के लिए भी किया जाता है।

छत, स्लैब या ढलान वाली छतें: वक़्त के साथ, वायुमंडलीय परिवर्तन और कठोर जलवायु परिस्थितियां  टेरेस/ छत, संयुक्त स्लैब और ढलानों वाली जगह पर पर गहरी गर्त और दरारें बनाते हैं। रोफ्फ़ हाईप्रूफ  जैसे एक अच्छे वाटरप्रूफिंग घोल का उपयोग करें, जो छत वॉटरप्रूफिंग के साथ-साथ कंक्रीट, रेत-सीमेंट मोर्टार, बेसमेंट, रूफ वॉटरप्रूफिंग, किसी एक भाग, वॉटर रिटेनिंग स्ट्रक्चर / पानी को बनाए रखने वाली संरचनाओ, धंसी हुई स्लैब, वॉटर टैंक और टंकियों के लिए भी उपयोग किया जाता है।

इसका प्रयोग मानसून से पहले किया जाना चाहिए।

शौचालय, स्नानघर या सिंक स्लैब: पानी आपके कमरे या घर की दीवार से लगे शौचालय और स्नानघर से भी लीक हो सकता है और अक्सर यह दीवारों की पेंट को ख़राब कर देता है साथ ही सीलन का मुख्य करण बन जाता है। टॉयलेट, स्नानघर और सिंक स्लैब के रिसाव से बचने के लिए रोफ्फ़ हाईसील का उपयोग करें। कंक्रीट के पानी टंकियों, बाथरूम, शौचालय, बेसमेंट, लिफ्ट की दीवारों, निरीक्षण गड्ढों, स्लैब और भूमिगत संरचनाओं के लिए वाटरप्रूफ कोटिंग के रूप में इसका इस्तेमाल पानी के रिसाव को रोकता है।

विस्तार जोड़ों / एक्सपेंशन जॉइंट्स: इन सब के अलावा, विस्तार जोड़ों / एक्सपेंशन जॉइंट्स पर भी ध्यान दें जो मानसून के दौरान प्रभावित होते हैं। सुनिश्चित करें कि आप उन्हें भी वाटरप्रूफ कर रहे हैं एक स्वस्थ और मॉनसून सुरक्षित घर के लिए।

हैप्पी होम्स में, हम कोशिश करते हैं की आपकी सभी आम समस्याओं का जिक्र करें। पर यदि आपके पास कोई विशिष्ट समस्या है जिसके लिए आप चाहते हैं की हम उसका उल्लेख करें, तो आप हमे लिख सकते हैं हमे आपकी मदद करने में ख़ुशी होगी|