ब्लॉग

धूप और बारिश से अपने बिल्डिंग्स / मकान की रक्षा के 2 आसान तरीके

नवीकरण

धूप और बारिश से अपने बिल्डिंग्स / मकान की रक्षा के 2 आसान तरीके

अच्छे और सुंदर दिखने वाले घरों के दो सबसे बड़े दुश्मन हैं जिनपर हमारा नियंत्रण शायद बिलकुल भी नही है क्यूंकि उनका सीधा संबंध प्रकृति से है|

अच्छे और सुंदर दिखने वाले घरों के दो सबसे बड़े दुश्मन हैं जिनपर हमारा नियंत्रण शायद बिलकुल भी नही है क्यूंकि उनका सीधा संबंध प्रकृति से है| पहली है बारिश और दूसरी कड़कती धूप| हम मार्च के शुरुआत से ही तापमान में बदलाव महसूस कर सकते हैं और मई के बीच तक तो तापमान आसमान छूने लगता है, ऐसी तपती धूप में हमारे घरों के बाहरी पेंट और सुन्दरता का क्या होगा ये सोच के ही होश उड़ जाते हैं| इतना ही नहीं बारिश भी हमारी मुश्किलें बढ़ाने में कोई कसर नही छोड़ती, बारिश के वक़्त अपने घरों को टपकने से बचाना और सीलन से अपनी दीवारों को बचाना घर के मालिकों के लिए सबसे ज्यादा मुश्किल कार्य हो जाता है| यदि आप चाहते हैं कि आपका घर स्वस्थ और सुरक्षित रहे, तो आपको तुरंत इन तरीकों को क्रियान्वित करना चाहिए|

 

# तरीका 1: रोकें/ रोकथाम 

कड़ी धूप आपके असिंचित छतों के प्लास्टर में दरारों का कारण बन सकती है| साथ ही यह आपके घर के बाहरी दीवारों के खूबसूरत रंगों को फिंका कर सकती है और तेज़ धूप की वजह से उन दीवारों में दरारें भी पर सकती हैं| कड़ी धूप और ताप से बचने के लिए हीट रेफलेक्टिवे ( उर्जा परावर्तन) पेंट कोटिंग्स का उपयोग करें| साथ ही आप, डॉ फिक्सिट का हीटशील्ड का भी उपयोग कर सकते है जोकि ताप को कम करने और ’उर्जा बचाने’ वाला इलास्टोमेरिक कोटिंग है, यह हर तरह के प्रतिकूल मौसम परिस्थितियों से आपके घरों को बचाने में काफी मदद करता है।

छतों या बाहरी दीवारों के निर्माण के लिए, हीटशील्ड एक ऐसा उत्पाद है जिसपर आप आँख बंद करके भरोसा कर सकते हैं| यह एयर-कंडीशनर पर लोड कम करके बिजली की खपत को काफी हद तक कम करने में मदद करता है और साथ ही साथ वाटरप्रूफिंग गुणों के साथ घर के आंतरिक हिस्सों को ठंडा रखता है। मैं यह आशा करता हूँ कि केवल यह एक उत्पाद आपके घरों को धूप और बारिश दोनों से बचाने में आपकी  काफी मदद करेगा- यही वजह है की हमने कोलकाता में अपने 100 साल पुराने घर की मरम्मत करते समय इसका इस्तेमाल किया था।
 

यह कैसे काम करता है?

मैं आपको इस बारे में थोड़ी सी जानकारी देता हूं कि यह कैसे काम करता है। डॉ फिक्सिट हीटशील्ड में 'हॉलो माइक्रो स्फीयर' की उन्नत सामग्री (एडवांस्ड मटेरियल ) है जो की 'हीट इंसुलेशन / ऊष्मारोधन’में उल्लेखनीय रूप से सहायक है। कांच के बुलबुले का अद्वितीय गोलाकार आकार स्थिर वोयड / खाली क्षेत्र बनाता है जिसके परिणामस्वरूप ताप की आवाजाही कम हो जाती है और साथ ही डाई इलेक्ट्रिक कांस्टेंट भी कम हो जाता है। जब इसे सब्सट्रेट या प्लास्टर पर लगाया जाता है तो हॉलो माइक्रो स्फीयर एक बेहद पैक / गठित संरचना बनाती है ड्राई फिल्म लेयर के साथ जैसे की ' एयर स्पेस'  जो की एक ताप अवरोधी माध्यम की तरह ताप के हस्तांतरण का विरोध करता है। इसका मतलब है कि यह आपकी दीवार और प्रकाश स्रोत के बीच एक प्रकार का शून्य स्थान बनाता है जिसके परिणामस्वरूप ताप हस्तांतरण की प्रक्रिया धीमी हो जाती है! साथ ही, यह आपके भवन को हमेशा की तरह ठंडा रखते हुए, वायुमंडल में अधिकांश सौर उर्जा को रिफ्लेक्ट कर देता है| हैं न आपके लिए सबसे बेहतर?

 

# तरीका 2: इलाज

हालाँकि, यदि आपके भवन या घर में पहले से ही दरार के निशान दिख रहे है, तो आप डॉ फिक्सिट क्रैक एक्स श्रीन्क्फ्री का उपयोग कर सकते हैं, जो किसी भी समतल सतह पर बड़ी दरारें भरता है - आंतरिक और बाहरी दोनों। क्योंकि यह लगाने के बाद सिकुड़ता नहीं है, और मजबूती से सीमेंटेड सब्सट्रेट से बंध जाता है, अतः आप आँख बंद करके अपने घर / भवन को बारिश से बचाने के लिए इसका उपयोग कर सकते हैं।

कहते हैं मुसीबत आने के बाद उसका इलाज कराने से बेहतर है पहले ही उसे आने से रोकने के उपाय कर दिए जाये और यही समय है जब आप अपने घर की नीवं और दीवारों को और मजबूत बना सकते हैं| अभी के लिए, बस इतना ही। यदि आपने डॉ फिक्सिट हीटशील्ड या क्रैक एक्स का उपयोग किया है, तो हमें अपने अनुभवों के बारे में जरुर बताएं ताकि दुसरे भी उससे लाभ ले सके!